22.7 C
Chandigarh

उपायुक्त एवं आम लोगों ने पतंगबाजी प्रतियोगिताओं का आनंद लिया, विजेताओं को बधाई दी

- Advertisement -spot_img

फिरोजपुर 5 फरवरी 2024

फिरोजपुर के शहीद भगत सिंह राज्य विश्वविद्यालय में आयोजित की जा रही राज्य स्तरीय पतंगबाज़ी नॉक-आउट प्रतियोगिताओं के पहले दिन का उद्घाटन उपायुक्त श्री राजेश ने किया! राज्य स्तरीय पतंगबाजी की नॉक आउट प्रतियोगिताओं का जहां उपायुक्त एवं आम लोगों ने लुत्फ उठाया, वहीं पतंगबाजी प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले प्रतिभागियों एवं विशेषकर विजेताओं को बधाई भी दी!
जिले के पत्रकारों के साथ विशेष प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि पंजाब सरकार ने पारंपरिक और विरासती मेलों को बढ़ावा देने और युवाओं का रुझान बढ़ाने के उद्देश्य से इस मेले की शुरुआत की है. उन्होंने कहा कि पतंगबाजी की ये नॉक आउट प्रतियोगिताएं पर्यावरण संरक्षण, नारी शक्ति, वोट के प्रति जागरूकता एवं गतिशीलता को समर्पित हैं! उन्होंने बताया कि इस राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए 3 हजार रजिस्ट्रेशन हुए हैं!

उपायुक्त ने कहा कि सबसे आकर्षक प्रतियोगिता ‘सबसे बड़ी पतंग’ प्रतियोगिता होगी और यह 11 फरवरी को आयोजित की जाएगी. इस प्रतियोगिता के विजेताओं को 2 लाख रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा! उन्होंने बताया कि 11 फरवरी को पुरस्कार वितरण समारोह भी आयोजित किया जायेगा. उन्होंने कहा कि इन पतंग प्रतियोगिताओं के दौरान जहां विदेशी लोग विभिन्न प्रकार की पतंगों से लोगों का मनोरंजन करेंगे, वहीं साइकिल चालकों के लिए भी एक अलग प्रतियोगिता होगी।

ग्रीस के युवा कोस्टास जो पतंग चैम्पियनशिप 2023 के विजेता हैं। उन्होंने बताया कि यह युवक तरह-तरह की पतंगें उड़ाता है और पतंगें भी खुद ही बनाता है. उन्होंने बताया कि यह युवक प्रतिदिन अलग-अलग तरह की पतंगें उड़ाकर दर्शकों का मनोरंजन करेगा. उन्होंने प्रदेशवासियों से इन पतंग प्रतियोगिताओं में बढ़-चढ़कर भाग लेने और दो दिवसीय राज्य स्तरीय आयोजन का आनंद लेने की भी अपील की। उन्होंने कहा कि लोक गायक अमृत मान और जगजीत जीती जैसे कलाकार जहां गानों के जरिए लोगों का मनोरंजन करेंगे, वहीं फूड स्टॉल भी आकर्षण का केंद्र होंगे.
उन्होंने कहा कि इन पतंग प्रतियोगिताओं के दौरान चाइना चोर का प्रयोग वर्जित है. उन्होंने जिलावासियों से अपील करते हुए कहा कि वे इस वर्ष का पतंग महोत्सव बिना चाइना डोर के मनाएं, क्योंकि चाइना डोर पशु-पक्षियों व इंसानों के लिए घातक है और इससे कई दुर्घटनाएं भी होती हैं, इसलिए जिलावासी चाइना डोर का प्रयोग न करें। साल. करना है

इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त डाॅ. डॉ. निधि कुमुद बंबा, जिला भाषा अधिकारी। जगदीप सिंह, रजिस्ट्रार डॉ. गजलप्रीत सिंह, सचिव रेडक्रॉस अशोक बहल, डिप्टी डीईओ प्रत सिंह बराड़, प्रिंसिपल डॉ. इंडियन काइट टीम से सतिंदर सिंह और वरुण चड्ढा के अलावा विभिन्न एनजीओ के प्रतिनिधि मौजूद रहे।

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img