23.5 C
Chandigarh

मालदीव की रिश्ते सामान्य करने की पहल, राष्ट्रपति Muizzu आ सकते है भारत

- Advertisement -spot_img

India maldives row update

भारत और मालदीव में चल रहे विवाद के बीच राहत भरी खबर आई है। मालदीव की ओर से रिश्तों को सामान्य करने की पहल की गई है। सूत्रों के मुताबिक, मालदीव ने भारत सरकार को मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज़्ज़ू की भारत यात्रा का कार्यक्रम भेजा है। वे जनवरी के आखिर में भारत आ सकते है। भारत से तनाव के बीच भी वे चीन की 5 दिवसीय यात्रा पर है, लेकिन मालदीव के भारत के साथ भी अच्छे संबंध है। हालांकि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ टिप्पणी करने वाली अपनी मंत्री को निलंबित कर दिया है, लेकिन भारतीय इस कार्रवाई से संतुष्ट नहीं है। इसलिए मुइज्जू खुद भारत आकर संबंधों को सामान्य करना चाहते है।

Read also: ठंड में बदला स्कूलों का समय…

मालदीव की पूर्व रक्षा मंत्री ने भारत को संकट का साथी बताया-
भारत के साथ विवाद में मालदीव की पूर्व रक्षा मंत्री मारिया अहमद दीदी भी कूद गई है। उन्होंने मामले पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि भारत 911 कॉल जैसे है। वह देश जरूरत पड़ने के समय हमेशा मालदीव के साथ खड़ा रहता है। भारत ने आज तक मालदीव की हरसंभव मदद की है। भारत हमेशा से ही मालदीव का संकट का साथी रहा है। ऐसे में मित्र देश के प्रधानमंत्री के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करना ठीक नहीं है। विवाद को तरीके से न सुलझाना मालदीव सरकार और राष्ट्रपति मुइज्जू की अदूरदर्शिता है।

मुइजजू के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी-
दूसरी तरफ विवाद के चलते भारत और मालदीव के रिश्ते बिगड़ने से विपक्षी भड़क गया है। विपक्ष नेता अली अजीम ने मुइज्जू सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान किया है। साथ ही सत्तारूढ़ पार्टी के सांसदों से भी अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में आने को कहा है। अली अजीम का कहना है कि मालदीव सरकार की मंत्री शिउना को भारत के प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी। उन्होंने जो पोस्ट लिखी वह अपने देशवासियों के लिए लिखी, न कि मालदीव के खिलाफ लिखी। ऊपर से शिउना को अन्य नेताओं-मंत्रियों द्वारा बढ़ावा दिया जा रहा है।

India maldives row update

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img