22.7 C
Chandigarh

पंजाब के निर्मल ऋषि और प्राण सभरवाल को मिलेगा पद्मश्री…

- Advertisement -spot_img

 Padma shri of this year

लोकप्रिय पंजाबी अभिनेता निर्मल ऋषि और प्राण सभरवाल को केंद्र सरकार ने चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्मश्री से सम्मानित करने का फैसला लिया है। निर्मल ऋषि का जन्म 1943 में मनसा जिले के खिवा कलां गांव में हुआ था। प्राण सभरवाल का जन्म जालंधर जिले में हुआ था। गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर गुरुवार को पद्म पुरस्कारों का एलान कर दिया गया है। इनमें पंजाब के 2 व हरियाणा के 4 लोग शामिल है। पंजाब की निर्मल ऋषि और प्राण सभरवाल को कला के क्षेत्र में अतुलनीय योगदान के लिए पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा गया है। निर्मल ऋषि पंजाबी फिल्म व टेलीविजन अभिनेत्री है।

Read also: ड्रग्स का सेवन करते पकड़े गए 2 क्रिकेटर्स; क्रिकेट बोर्ड ने दोनों खिलाड़ियों को किया बैन

उन्हें उनकी पहली फिल्म लॉन्ग दा लिश्कारा (1983) में गुलाबो मासी की भूमिका के लिए सबसे ज्यादा याद किया जाता है। उनका जन्म 1943 में मनसा जिले के खिवा कलां गांव में हुआ था। उनके पिता बलदेव कृष्ण ऋषि और माता का नाम बचनी देवी था। उन्होंने शारीरिक शिक्षा प्रशिक्षक बनना चुना और शारीरिक शिक्षा के लिए सरकारी कॉलेज पटियाला में दाखिला लिया। उन्होंने 60 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया। निक्का जैलदार और द ग्रेट सरदार जैसी पंजाबी फिल्मों से भी खूब चर्चा में आई। प्राण सभरवाल पंजाब के एक अनुभवी अभिनेता और प्रसिद्ध थिएटर कलाकार है। उनका जन्म वर्ष 1930 में जालंधर में हुआ था और जब वह केवल 9 वर्ष के थे, तब उन्हें अभिनय में रुचि हो गई। वह अपने चाचा और पिता के साथ जालंधर में रामलीला देखने जाते थे और तुरंत ही उन्हें थिएटर में राम के अभिनय की कला से प्यार हो गया। अभिनय के प्रति उनका प्रेम तब और गहरा हो गया जब उनकी मुलाकात दिग्गज बॉलीवुड अभिनेता से हुई पृथ्वीराज कपूर 1952 में जब वह एक अभिनय के लिए जालंधर आए। फिल्म इंडस्ट्री में प्राण ने अपना डेब्यू सरदारा करतारा नाम की फिल्म से किया था, जो 1980 में रिलीज हुई थी। सितंबर 2022 में, प्राण सभरवाल को रॉयल पटियाला कल्चरल एंड वेलफेयर सोसाइटी ने कालिदास ऑडिटोरियम एनजेडसीसी में गुरु शीर्ष पुरस्कार से भी सम्मानित किया था।

Padma shri of this year

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img