23.5 C
Chandigarh

मार्च तक ब्रह्मोस सुपरसॉनिक मिसाइलों का निर्यात शुरू करेगा भारत, DRDO का बड़ा एलान

- Advertisement -spot_img

DRDO new update

डीआरडीओ प्रमुख ने बताया कि 307 ATAGS बंदूकों का निर्माण भारत फोर्ज और टाटा एडवांस्ड सिस्टम जैसी निजी क्षेत्र की कंपनियां कर रही है। उनके लिए भी इस वित्तीय वर्ष के अंत तक विदेश से ऑर्डर आ सकते है। भारत की रक्षा क्षेत्र में पूरी तरह आत्मनिर्भर बनने की कोशिश में जल्द ही एक और उपलब्धि जुड़ने वाली है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन इस साल मार्च तक ब्रह्मोस सुपरसॉनिक क्रूज मिसाइल का निर्यात शुरू कर देगा।

Read also: यूरिन इन्फेक्शन के वे 5 लक्षण; जिन्हें अक्सर हम इग्नोर कर देते है और बाद में होती है बड़ी परेशानी

डीआरडीओ प्रमुख समीर वी. कामत ने खुद इसकी पुष्टि की है। उन्होंने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि डीआरडीओ अगले 10 दिन में ही इन मिसाइलों के ग्राउंड सिस्टम्स का निर्यात शुरू करेगा। इतना ही नहीं डीआरडीओ ने जिन 307 ATAGS बंदूकों को विकसित किया है और जिनका निर्माण भारत फोर्ज और टाटा एडवांस्ड सिस्टम जैसी निजी क्षेत्र की कंपनियां कर रही हैं, उनके लिए भी इस वित्तीय वर्ष के अंत तक विदेश से ऑर्डर आ सकते हैं। डीआरडीओ चेयरमैन ने कहा कि ब्रह्मोस मिसाइल के लिए फिलीपींस के अलावा अन्य देशों ने भी रुचि दिखाई है। मेरा अनुमान है कि 31 मार्च से पहले ही इसके लिए ऑर्डर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि डीआरडीओ की तरफ से अब तक जिन हथियारों का उत्पादन हो रहा है, उन्हें जल्द ही सेना के तीनों अंगों में शामिल किया जाएगा। कामत ने बताया कि LCA Mk-1A, अर्जुन एमके-1ए, QRSAM के अलावा हमारी कुछ और मिसाइलें जल्द ही सेना का हिस्सा बनेंगी।

DRDO new update

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img