8.9 C
Chandigarh

खत्म हुआ पश्चिमी विक्षोभ का असर; इस हफ्ते फिर हो सकती है बारिश

- Advertisement -spot_img

Effect of western disturbance ended

मौसम ने एक बार फिर से करवट बदली है। बीते 2 दिनों से कम रफ्तार से चलने वाली हवाओं ने गुरुवार को अपनी गति बढ़ा दी। जिससे दिन के तापमान में 2 से 3 डिग्री के गिरने का अनुमान लगाया जाने लगा है। अनुमान के मुताबिक, गुरुवार को पूरे दिन औसतन 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। जबकि रात के तापमान में 2 से 3 डिग्री की गिरावट दर्ज हो सकती है। मौसम विभाग का आंकलन है कि इस सप्ताह भी पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और दिल्ली-एनसीआर के हिस्सों में सुबह शाम के वक्त कोहरा बना रहेगा।

Read also: पश्चिम बंगाल के रायगंज में सड़क दुर्घटना, 4 की मौत और 15 घायल

वहीं पश्चिमी हिमालय रीजन में बने वेस्टर्न डिस्टरबेंस का असर खत्म हो चुका है। इस वजह से पहाड़ों पर बर्फबारी और तेज बारिश की फिलहाल कोई परिस्थितियां नहीं बन रही है।मौसम विभाग के मुताबिक, जनवरी के आखिरी सप्ताह से उत्तर पश्चिमी हिमालयन रीजन में पश्चिमी विक्षोभ का असर बना हुआ था। इसके चलते न सिर्फ पहाड़ों पर जमकर बर्फबारी हुई, बल्कि मैदानी इलाकों में झमाझम बारिश भी होती रही। मौसम के बदले हुए इन तेवरों के चलते पहाड़ी इलाकों से लेकर मैदानी इलाकों में भी तापमान कम हो गया। मौसम विभाग के वैज्ञानिकों की माने, तो महज दस दिनों के भीतर लगातार तीन बार पश्चिमी विक्षोभ ने अपना असर दिखाया, जो कि अब पूरी तरह से खत्म हो चुका है। उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में तेज हवाओं के चलने का लगातार संभावनाएं जरूर बनती जा रही है। मौसम विभाग के मुताबिक, जनवरी के आखिरी सप्ताह से उत्तर पश्चिमी हिमालयन रीजन में पश्चिमी विक्षोभ का असर बना हुआ था। इसके चलते न सिर्फ पहाड़ों पर जमकर बर्फबारी हुई, बल्कि मैदानी इलाकों में झमाझम बारिश भी होती रही। मौसम के बदले हुए इन तेवरों के चलते पहाड़ी इलाकों से लेकर मैदानी इलाकों में भी तापमान कम हो गया। मौसम विभाग के वैज्ञानिकों की माने, तो महज दस दिनों के भीतर लगातार तीन बार पश्चिमी विक्षोभ ने अपना असर दिखाया, जो कि अब पूरी तरह से खत्म हो चुका है।

Effect of western disturbance ended

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img