Loading...

नशा बनाने वाली फैक्ट्री पर सिविल प्रशासन और पुलिस मारा छापा

Report By : Krishan Advani

Report By : Krishan Advani

अवैध फैक्ट्री होने पर भी नहीं की गई कोई कारवाई

पातडां 28 मार्च (अडवाणी ) पंजाब के मुख्यमंत्री एक तरफ तो नशा खत्म करने की सौगंध खा रहे हैं दूसरी तरफ पंजाब के मुख्यमंत्री के जिले के शहर घगगा के पास अवैध रूप में पिछले 18 साल से नशा बनाने वाली तंबाकू की फैक्ट्री धड़ल्ले से चल रही है जिस पर अधिकारियों तक गुहार लगाने पर सिविल प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने कल छापेमारी तो की गई परंतु अवैध रूप में साबित होने के बाद भी नशा बनाने वाली फैक्ट्री वैसे ही चल रही है. अवैध फैक्टरी मालिक दलालों के पास चक्कर काटता हुआ दिखाई दिया.

मिली जानकारी के अनुसार पंजाब की धरती गुरु पीरों की धरती है जहां पर पंजाब सरकार की ओर से नशा छुड़ाने के लिए हर रोज लाखों रुपए खर्च करके सेमिनार करवाए जा रहे हैं वहीँ गांव बूटा सिंह वाले में एक अवैध नक्शा बनाने वाली फैक्ट्री धड़ल्ले से चल रही है. यह नशा बनाने वाली फैक्ट्री एक उजाड़ जगह पर जिस का रास्ता सिर्फ नशा फैक्ट्री तक ही जाता है और उस फैक्ट्री में चौकसी रखने के लिए दो मुलाजिम हर समय कोठे पर तैनात रहते हैं और फैक्टरी का गेट हर समय बंद रहता है. उसके साथ ही एक चोर मोर खिड़की रखी हुई है जिसके जरिए फैक्ट्री में अंदर जाने के लिए पूरी जवाब तलबी होने के बाद खासमखास व्यक्ति को ही अंदर जाने देते हैं.

तंबाकू की इस फैक्ट्री की शिकायत डीसी पटियाला को की गई थी. उस पर कार्रवाई करते हुए पातडां के एसडीएम कलाराम कंसल की ड्यूटी लगाई गई एसडीएम ने कल उप तहसीलदार के साथ एक सहित विभाग और थाना प्रभारी घगगा सरदार गुरमीत सिंह ने छापा मारा. जब छापा मारने गई टीम ने गेट पर पहुंची तो वैसे ही फैक्ट्री फैक्ट्री में नजारा देखने वाला मिला कि गेट बंद था और चोरी मोरी की खिड़की के राही बात की गई तो फैक्ट्री में तैनात मुलाजिम ने गेट खोलने से साफ मना कर दिया जिस पर थाना प्रभारी गुरमीत सिंह ने सख्ती दिखाई तो फैक्ट्री का गेट खोलना पड़ा और थाना प्रभारी गुरमीत सिंह ने फैक्ट्री मालिक को बड़ी मुश्किल से फैक्ट्री में बुलाया. जब उनको फैक्ट्री चलाने का लाइसेंस मांगा तो उस पर फैक्ट्री मालिक ने जो माल बेचने वाला लाइसेंस ही दिखा पाया. उप तहसीलदार और सहित विभाग के अधिकारी फैक्ट्री की वीडियो बनाकर वापस चले गए जबकि 2 नंबर में चल रही फैक्ट्री को सील भी कर सकते थे. उन्होंने फैक्ट्री मालिक को समय देकर एसडीएम पातड़ा के पास पेश होने के लिए हुकुम सुना कर चले गए.

जब इस संबंध में एसडीएम पातड़ा से संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि आज हमने जो टीम भेजी थी वह टीम सिर्फ चेकिंग के लिए गई थी. हमने इस संबंधी सभी विभागों को लिखती रूप में रिपोर्ट देने के लिए कहा है और फैक्ट्री मालिक को भी समय दिया गया है कि वह अपने कागज पत्तर लेकर हमारे पास आए जिस पर जो कार्रवाई होगी वह की जाएगी.

जब इस संबंध में थाना प्रभारी गुरमीत सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि आज हमने जर्दा बनाने वाली फैक्टरी पर उप तहसीलदार सेहत विभाग की टीम ने छापा मारने के लिए हमसे पुलिस टीम मांगी थी जिस पर मैं खुद आप गया पहले तो फैक्ट्री का दरवाजा खोलने के लिए कोई तैयार नहीं था. जब मैंने सख्त हुक्म जारी किए और फैक्ट्री मालिक को बुलाया तो फैक्ट्री मालिक के साथ बात करने पर ही उन्होंने गेट खोला और देखा कि वह फैक्ट्री अवैध रूप में चल रही है . जो जो कागज उन्होंने हमें दिखाएं वह सभी कागज से साबित होता है कि यह फैक्ट्री दो नंबर में चल रही है. मैंने अफसरों को फैक्ट्री सील करने के लिए पूछा तो उन्होंने कहा कि अभी कोई कार्रवाई नहीं करनी है और उस फैक्ट्री वालों को SDM के पास पेश होने के लिए बोल कर चले गए.

Newsletter

Get our products/news earlier than others, let’s get in touch.