Loading...

चाय बेचने से लेकर बापू आसाराम बनने तक का सफ़र

बापू आसाराम ने खड़ा किया 10 हजार करोड़ का साम्राज्‍य

पी एन टी न्यूज़ डेस्क : जोधपुर कोर्ट ने नाबालिग लड़की से बलात्‍कार के मामले में आसाराम को दोषी करार दिया है. किसी जमाने में भक्‍तों को अपने एक इशारे में नचाने वाला असाराम आज काल कोठरी में कैद है. कैसे चाय बेचने वाला आसाराम बन गया लोगों के लिए बापू आसाराम जानिए पी एन टी न्यूज़ की इस विशेष रिपोर्ट में .

आसाराम का असली नाम असुमल हरपलानी है. उसका जन्म 17 अप्रैल, 1941 को बिरानी नाम के गांव में हुआ था. अब ये गांव पाकिस्तान में आता है. बंटवारे के बाद आसाराम भी अपने परिवार के साथ भारत आ गया. पिता की मौत के बाद आसाराम ने मजिस्ट्रेट ऑफिस के सामने कुछ समय तक चाय बेचने का काम किया. आसाराम 15 साल की उम्र में ही घर से भागकर आश्रम चला गया था. किसी तरह उसके घरवाले उसे वापस लाए और उसकी शादी लक्ष्मी देवी से करवा दी. लक्ष्मी देवी से उसके दो बच्चे हुए नारायण साईं और भारती देवी.

आपको बता दें कि बापू आसाराम के आध्‍यात्मिक गुरु थे लीलाशाह. उन्‍होंने ही उसका नाम असुमल से बदल कर आसाराम रखा था. उसने अपनी पहली कुटिया अहमदाबाद से लगभग 10 किलोमीटर दूर साबरमती नदी के किनारे मुटेरा कस्‍बे में बनाई थी. शुरु में गुजरात के ग्रामीण इलाके के लोग उसका भजन-कीर्तन सुनने आया करते थे. लोगों को लुभाने के लिए वो इलाज और मुफ्त दवाओं का प्रलोभन भी देता था. यही नहीं भजन-कीर्तन के बाद प्रसाद के नाम पर फ्री में खाना भी बांटा जाता था. इन सब वजहों से आसाराम को सुनने के लिए दूर-दूर से लोग आने लगे. धीरे-धीरे प्रभाव बढ़ने लगा औरउसका नाम गुजरात के बाहर देश के दूसरे इलाकों में भी होने लगा.

बापू आसाराम के साम्राज्य की बात करें तो विभिन्न सूत्रों और मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, आसाराम की प्रॉपर्टी की कुल कीमत 10 हजार करोड़ रुपये के आसपास है. आसाराम ने अपने बेटे नारायण साईं के साथ मिलकर देश-विदेश में अपने लगभग 400 आश्रमों का साम्राज्‍य खड़ा किया. फिलहाल इसकी जांच प्रवर्तन निदेशालय कर रहा है. आसाराम पर आश्रम निर्माण के लिए गलत तरीके से जमीन हड़पने के मामले भी शामिल हैं.

फिर साल 2013 में आसाराम के खिलाफ नाबालिग लड़की के साथ रेप का मामला दर्ज किया गया. पीड़ित लड़की का परिवार आसाराम का भक्‍त था. आज उसी मामले में अदालत ने बापू आसाराम को दोषी करार दिया गया है.

Newsletter

Get our products/news earlier than others, let’s get in touch.